June 16, 2024

पेगासस मामला: इजरायली पुलिस ने जासूसी की बात कबूली

Share on

नई दिल्ली: पेगासस मुद्दे पर न्यूयॉर्क टाइम्स के हालिया खुलासे के बाद जहां पूरी दुनिया में हलचल मची हुई है, वहीं इसराइल में भी हंगामा हो रहा है. पेगासस स्पाइवेयर (स्पाई सॉफ्टवेयर) वास्तव में इजरायली कंपनी एनएसओ द्वारा विकसित किया गया था और न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि भारत ने एक रक्षा सौदे के तहत इजरायल से सॉफ्टवेयर खरीदा था। दुनिया के कई अन्य हिस्सों में सरकारों ने अपने ही नागरिकों की जासूसी करने के लिए इस सॉफ़्टवेयर का उपयोग किया है।

इस बीच, इज़राइल में अटॉर्नी जनरल के कार्यालय ने पुलिस को पेगासस के ज़रिये होने वाली जासूसी की जांच करने का आदेश दिया था। जांच में पता चला कि पुलिस ने कुछ लोगों की जासूसी की थी। पुलिस ने कानून का उल्लंघन करने की बात भी स्वीकार कर ली है। जबकि पुलिस ने पिछले महीने जासूसी के आरोपों को खारिज कर दिया था.

रिपोर्ट के अनुसार, एक इजरायली अखबार ने दावा किया कि पूर्व प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने उनके खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान नागरिकों की जासूसी कराई थी और ऐसा करने के लिए पेगासस का इस्तेमाल किया गया था। जब मामला बढ़ा तो इसकी जांच के आदेश दिए गए थे। पुलिस जांच और खुफिया विभाग के उप प्रमुख यू तेलिम ने संसदीय समिति से जासूसी किये जाने के सबूत हासिल करने का दावा किया है।

उन्होंने स्थानीय मीडिया को बताया कि यह 1979 के कानून का उल्लंघन है जिसमें केवल आतंकवादियों और संदिग्ध अपराधियों के फोन टैप करने की अनुमति है, क्योंकि इस मामले में आम नागरिकों के फोन टैप किए गए थे।

ध्यान रहे कि इजरायली अखबार कैलकुलिस्ट ने पिछले महीने दावा किया था कि सरकार ने विपक्षी नेताओं और नागरिकों की जासूसी करने के लिए पेगासस का इस्तेमाल किया था। इजरायली अखबार की रिपोर्ट के बाद, एक समिति का गठन किया गया था, जिसे 1 जुलाई तक अपनी रिपोर्ट सौंपनी थी। अंतरिम रिपोर्ट में, पुलिस ने स्वीकार कर लिया है कि लोगों की जासूसी करने के लिए पेगासस का इस्तेमाल हुआ है।