June 19, 2024

बजट सत्र: राज्यसभा में उठा रेलवे भर्ती में धांधली का मुद्दा

Share on

भारतीय रेलवे में एनटीपीसी की भर्ती में कथित अनियमितताओं का मुद्दा आज राज्यसभा के ऊपरी सदन में उठाया गया और रेलवे में ग्रुप डी के कर्मचारियों की भर्ती के लिए केवल एक परीक्षा की मांग की गई। इसके अलावा बिहार और उत्तर प्रदेश में छात्रों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेने की भी मांग की।

बजट सत्र के दौरान, जब आज सुबह सदन ने अपनी कार्यवाही फिर से शुरू की, तो पहले दक्षिण अफ्रीका के आर्च बिशप और मलेशिया में बाढ़ में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी गई और फिर आवश्यक दस्तावेज सदन की मेज पर रखे गए।

सभापति एम वेंकैया नायडू ने सदस्यों से कहा कि कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें और तयशुदा सीट पर ही बैठें। उन्होंने कहा कि कोरोना के कारण उच्च सदन राज्यसभा और निचले सदन लोकसभा की कार्यवाही दो अलग-अलग शिफ़्ट में चल रही है. उच्च सदन पहली शिफ्ट में है और निचला सदन दूसरी शिफ़्ट में चल रहा है। समय की कमी के कारण उच्च सदन की कार्यवाही में कुछ बदलाव किए गए हैं, जिसके तहत शून्य काल अब केवल आधे घंटे का होगा।

शून्य काल के दौरान राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) की डॉ फौजिया खान ने बिहार में रेलवे में भर्ती को लेकर नाराज छात्रों का मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा कि ग्रुप डी भर्ती के लिए दो परीक्षाएं लेने का कोई औचित्य नहीं है। यह आईएएस या आईपीएस की भर्ती नहीं है। इसके लिए एक ही टेस्ट लिया जाना चाहिए।

इसके साथ ही, उन्होंने कहा कि परीक्षा परिणाम में सात लाख छात्रों के नाम आए हैं, जबकि अधिकतर छात्रों के नाम दो बार सामने आए हैं. इसलिए रेल मंत्री द्वारा गठित समिति की रिपोर्ट का इंतजार किए बिना अन्य 3.5 लाख छात्रों के परिणाम घोषित किए जाएं।

आम आदमी पार्टी के संजय सिंह ने परीक्षा में धांधली का आरोप लगाते हुए कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रयाग राज में छात्रों को घरों में घुस कर पीटा गया और इस दौरान बिहार और उत्तर प्रदेश में 1000 छात्रों के खिलाफ मामले दर्ज किए गए जिन्हें तुरंत वापस लिया जाना चाहिए.