June 15, 2024
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में ओवैसी की पार्टी को नोटा से भी कम वोट

Share on

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के नतीजे अब सामने आ गए हैं और बीजेपी ने राज्य में लगातार दूसरी बार सरकार बना ली है. नतीजे बताते हैं कि विपक्ष पिछले चुनावों की तुलना में मजबूत हुआ है, लेकिन यह देखना बाकी है कि आने वाले दिनों में यह क्या भूमिका निभाएगा।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में जहां बीजेपी गठबंधन ने 273 सीटें जीती हैं, वहीं सपा गठबंधन को पिछले चुनावों की तुलना में ढाई गुना ज्यादा सीटें मिली हैं. गठबंधन ने 403 में से 125 सीटों पर जीत हासिल की है।

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-ए-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने 2020 में बिहार विधानसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन किया था, लेकिन उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में यह केवल 0.49 प्रतिशत वोट ही हासिल कर पाई है।

यूपी विधानसभा चुनाव में केवल 34 मुस्लिम कैंडिडेट जीते, जानिए किसे कहाँ से मिली जीत?

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में एआईएमआईएम ने 100 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे। असदुद्दीन ओवैसी ने अपनी पार्टी के लिए कई रैलियां कीं। इस दौरान उन पर हमला भी हुआ जिसने सभी का ध्यान खींचा, लेकिन इन सबके बावजूद उत्तर प्रदेश के लोगों खासकर अल्पसंख्यकों पर इसका कोई खास असर नहीं पड़ा। ओवैसी की पार्टी को यूपी में सिर्फ 0.49% वोट मिले. ये वोट नोटा से भी कम हैं, क्योंकि यूपी में 0.69 प्रतिशत लोगों ने नोटा को चुना है।

ओवैसी ने 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में पहली बार 20 सीटों के लिए उम्मीदवार उतारे थे। सीमांचल में ओवैसी की पार्टी के उम्मीदवारों ने शानदार प्रदर्शन किया था और 5 सीटों पर जीत हासिल की थी.

इन नतीजों पर प्रतिक्रिया देते हुए ओवैसी ने कहा कि उन्होंने अपने भाषण में कहा था कि समाजवादी पार्टी बीजेपी को नहीं हरा सकती और यह रिकॉर्ड में है. उन्होंने यह भी कहा कि अब यूपी के गरीब लोग समझ जाएंगे। हमारे ऊपर जो भी आरोप लगाए जाएँ हमें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। हम राजस्थान और गुजरात में भी लड़ेंगे। हम चुनाव परिणामों का सम्मान करते हैं। हम पहले से कहीं ज्यादा मेहनत करेंगे।