June 13, 2024

राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लोकसभा में राहुल गांधी की तीखी प्रतिक्रिया, मोदी सरकार पर भी हमला

Share on

राष्ट्रपति के अभिभाषण के लिए धन्यवाद प्रस्ताव पर आज लोकसभा में बहस की शुरुआत करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कई बातें कही. बुधवार को राष्ट्रपति के भाषण का जवाब देते हुए उन्होंने सबसे पहले इसे सच्चाई से कोसों दूर बताया. उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति के भाषण में न तो मौजूदा मुद्दों का जिक्र था और न ही इसमें दो भारत का जिक्र था. आज एक नहीं बल्कि दो भारत हैं, एक अमीरों का भारत और एक गरीबों का भारत। और इन दोनों भारतीयों के बीच दूरियां बढ़ती जा रही हैं। उन्होंने यह भी कहा कि भाषण में बेरोजगारी का कोई जिक्र नहीं था, जबकि पिछले साल 3 करोड़ युवा बेरोज़गार हो गए। स्थिति यह है इस समय भारत में 50 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी है।

राहुल गांधी ने आगे कहा कि 84 फीसदी लोगों की आय घटी है और वे तेजी से गरीबी की ओर बढ़ रहे हैं. यूपीए सरकार ने 23 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर निकाला था और ये आंकड़े हमारे नहीं हैं। राहुल गांधी ने अपने भाषण के दौरान मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला. यहां तक ​​कि उन्होंने बीजेपी सरकार को कोरोना वेरिएंट (डबल एए) तक कह डाला। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति (अडानी) को भारत के सभी बंदरगाह, बिजली, ट्रांसमिशन, माइनिंग, ग्रीन एनर्जी सब कुछ दे दिया गया और दूसरी ओर अंबानी जी पेट्रोल, कैमिकल, ई-कॉमर्स में एकाधिकार बनाये हुए है। सारा पैसा कुछ गिने चुने लोगों के हाथ में जा रहा है।

राहुल गांधी ने मोदी सरकार की गलत नीतियों की आलोचना करते हुए कहा कि ‘मेड इन इंडिया’ को बढ़ावा देने के लिए छोटे और मझोले उद्यमों को विकसित करना होगा, लेकिन पिछले छह साल में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर ने अपनी 46 फीसदी नौकरियां कम हो गई हैं. उन्होंने कहा कि बड़े उद्योग से समस्या नहीं हैं, लेकिन छोटे और मध्यम उद्यमों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। राहुल गांधी ने मोदी सरकार के कुछ नारों का जिक्र करते हुए कहा कि इन नारों के जरिए सरकार देश को गरीब बना रही है. इस भारत को सब कुछ दिखाई दे रहा है। लोग देख रहे हैं कि ये सभी आंकड़े जो आज उपलब्ध हैं, सरकार के कार्यों का नतीजा है। आज भारत के 100 सबसे अमीर लोग के पास 55 करोड़ लोगों से अधिक संपत्ति है। 10 लोगों के पास 40 प्रतिशत भारत से ज्यादा दौलत है। यही नरेंद्र मोदी ने किया है। मैं प्रधानमंत्री को सलाह देता हूं कि ये जो आप दो भारत का निर्माण कर रहे हैं, उसे जोड़ने का काम शुरू कीजिये।

राहुल गांधी ने अपने भाषण के दौरान अपनी दादी इंदिरा गांधी और अपने पिता राजीव गांधी के बलिदान का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा “मेरी दादी ने 32 गोलियां खाईं, मेरे परदादा सालों जेल में रहे थे, मेरे पिता एक विस्फोट में मारे गए थे, इसलिए हम इस देश की कीमत जानते हैं।”

चीन के बारे में बात करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि उनका विजन बहुत साफ है. उन्हें पता है कि उन्हें क्या करना है। मोदी सरकार को संबोधित करते हुए, कांग्रेस नेता ने साफ़ शब्दों में कहा, कि “आपको चीन और पाकिस्तान को अलग करना चाहिए था, लेकिन आप उन्हें साथ ले आए।” यह सबसे बड़ी गलती है। मुझे साफ़ तौर पर दिखाई दे रहा है कि चीन की एक योजना है। चीन ने डोकलाम और लद्दाख में नींव रख दी है। यह सबसे बड़ी चुनौती है। हमने जम्मू-कश्मीर में भी बड़ी रणनीतिक गलती की है। अगर हमने इसमें सुधार नहीं किया तो देश की जनता को नुकसान होगा।”