June 16, 2024

verdict

अरशद मदनी ने कहा कि जमीयत उलेमा-ए-हिंद इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक जाएगी.  और इन आरोपियों को फांसी से बचाने और उनके मामलों को मजबूती से लड़ने के लिए देश के जाने-माने क्रिमनल लॉयर्स की मदद लेगी.