June 24, 2024
पंजाब विधानसभा चुनाव

पंजाब विधानसभा चुनाव: कुमार विश्वास ने केजरीवाल को कहा खालिस्तानी समर्थक

Share on

पंजाब विधानसभा चुनाव: पंजाब में 20 फरवरी को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होना है लेकिन चुनाव से पहले राजनीति अपने चरम पर है. सियासी नेताओं के आरोप प्रत्यारोप के बीच आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता और कवि कुमार विश्वास ने आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल पर गंभीर आरोप लगाए हैं.

कुमार विश्वास ने कहा कि अरविंद केजरीवाल पंजाब में अलगाववादियों के समर्थक थे. विश्वास ने कहा, “एक दिन उन्होंने मुझसे कहा था, कि वह या तो मुख्यमंत्री (पंजाब) बनेंगे या स्वतंत्र देश (खालिस्तान) के पहले प्रधानमंत्री बनेंगे।”

कुमार विश्वास ने आगे कहा, कि ‘अरविंद केजरीवाल को समझना चाहिए कि पंजाब सिर्फ एक राज्य नहीं है, यह एक भावना है। मैंने पहले उनसे कहा था कि अलगाववादी और खालिस्तानी संगठनों से जुड़े लोगों को पार्टी में शामिल न करें. तो केजरीवाल ने मुझसे कहा कि नहीं नहीं हो जायेगा! कुमार विश्वास ने कहा, कि “पिछले चुनाव के दौरान, मैंने उनसे कहा था कि वे अलगाववादी संगठन हैं, खालिस्तानी आंदोलन से जुड़े लोग हैं, उनका साथ मत लो। उस समय, उन्होंने कहा, था कि ‘नहीं-नहीं सब हो जायेगा। चिंता मत करो।” कुमार विश्वास ने ये आरोप उस समय लगाए हैं जब पंजाब विधानसभा चुनाव समेत देश के पांच राज्यों में असेंबली चुनाव हो रहे हैं।

(Punjab Assembly Election) पंजाब विधानसभा चुनाव प्रचार का आखिरी दिन

कुमार विश्वास ने दावा किया, है कि “एक दिन उन्होंने मुझसे कहा था कि चिंता मत करो मैं एक स्वतंत्र प्रांत का मंत्री बन जाऊंगा। मैंने कहा कि यह एक अलगाववादी आंदोलन है। 2020 की जनगणना आने वाली है और पूरी दुनिया इसके लिए फंडिंग कर रही है। तो आपने कहा क्या हुआ! मैं एक स्वतंत्र देश का पहला प्रधानमंत्री बनूंगा।

इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने केजरीवाल पर इसी तरह के आरोप लगाए थे। पंजाब में एक रैली को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा था, कि ”पंजाब को स्थिर सरकार की जरूरत है. मैं चाहता हूँ कि आप याद रखें कि चाहे कुछ भी हो जाये, आपको किसी दहशतगर्द के घर में कांग्रेस का नेता नहीं मिलेगा, बल्कि झाड़ू वाला बड़ा लीडर आपको वहां मिलता है. पंजाब के सामने खतरा है जिसके लिए चरण जीत चन्नी जैसे मज़बूत मुख्यमंत्री की ज़रुरत है.

उल्लेखनीय है कि कवि कुमार विश्वास और अरविंद केजरीवाल 2012 में भ्रष्टाचार के खिलाफ हुए अन्ना आंदोलन के दौरान करीब आए थे। जब अन्ना आंदोलन की समाप्ति के बाद आम आदमी पार्टी का गठन किया गया कुमार विश्वास भी संस्थापक सदस्यों में से एक थे। पार्टी बनने के बाद केजरीवाल और कुमार विश्वास के बीच दोस्ती बढ़ी। हालांकि, दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद कुमार विश्वास और अरविंद केजरीवाल के बीच संबंध बिगड़ने लगे।

इतना ही नहीं कुछ समय बाद कुमार विश्वास ने खुद को आम आदमी पार्टी से पूरी तरह अलग कर लिया. केजरीवाल से मतभेदों के चलते आप से दूरी बनाने वाले कुमार विश्वास पिछले कई सालों से आम आदमी पार्टी की सरकार की कई नीतियों की आलोचना करते रहे हैं.