June 15, 2024
रूस यूक्रेन सैन्य कार्रवाई

रूस यूक्रेन सैन्य कार्रवाई: रूस-यूक्रेन तनाव पर भारत ने जताई गहरी चिंता

Share on

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन पर हमले (रूस यूक्रेन सैन्य कार्रवाई) का आदेश दिया है, जिसके बाद राजधानी कीव में सिलसिलेवार बम धमाकों के सुनाई दिए हैं, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हमले में कई लोगों की जान चली गई है. इस बीच, भारत ने कहा है कि अगर रूस और यूक्रेन के बीच दुश्मनी पर अंकुश नहीं लगा तो एक बड़ा संकट खड़ा हो जाएगा. इससे क्षेत्र में गंभीर अस्थिरता पैदा हो सकती है.

इस बीच, संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस त्रिमूर्ति ने कहा कि हालात एक बड़े संकट की ओर बढ़ रहे हैं. हम इस स्थिति के बारे में गहरी चिंता व्यक्त करते हैं. अगर इसे एहतियात से न संभाला गया तो क्षेत्र की शांति व्यवस्था बिगड़ सकती है. टी एस त्रिमूर्ति ने सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कहा, कि हम संघर्ष को तत्काल रोकने और आगे की किसी भी कार्रवाई से बचने का आह्वान करते हैं.

यूक्रेन-रूस तनाव: रूस की सैन्य कार्रवाई की घोषणा, यूक्रेन में इमरजेंसी लागू

रूस सैन्य कार्रवाई: पुतिन ने यूक्रेनी सैनिकों से कहा हथियार डाल दो

सभी पक्षों को संयम दिखाते हुए शांति और सुरक्षा बनाए रखने की जरूरत पर जोर देते हुए त्रिमूर्ति ने कहा कि समस्या का समाधान लगातार कूटनीतिक बातचीत से ही संभव होगा. उन्होंने कहा कि भारत यूक्रेन के विभिन्न हिस्सों में रहने वाले अपने नागरिकों को विशेष उड़ानों के जरिए स्वदेश लाने में मदद कर रहा है.

माना जा रहा है कि रूसी सेना क्रीमिया के रास्ते यूक्रेन में प्रवेश कर रही है और रूस ने यूक्रेन की सेना को ‘समर्पण’ करने के लिए कहा है. हालांकि, पुतिन ने कहा है कि उनका यूक्रेन पर कब्जा करने का इरादा नहीं है. इस बीच, संयुक्त राष्ट्र ने रूस से अपने हमलों को (रूस यूक्रेन सैन्य कार्रवाई) रोकने का आह्वान किया है. पुतिन ने आज टीवी पर एक बयान में कहा कि उन्होंने एक सैन्य कार्रवाई करने का फैसला किया है.

ध्यान रहे कि रूस यूक्रेन सैन्य कार्रवाई के चलते यूक्रेन में इमरजेंसी घोषित कर दी गई है. इमरजेंसी गुरुवार से 30 दिनों तक प्रभावी रहेगी, हालांकि इसे लुहान्स्क और डोनेट्स्क के संघर्ष प्रभावित क्षेत्रों में लागू नहीं किया जाएगा. यूक्रेन में इमरजेंसी की स्थिति को 450 सीटों वाली संसद में 335 सांसदों ने समर्थन दिया था.