June 24, 2024
इलकर आयसी

इलकर आयसी ने एयर इंडिया का CEO बनने से इंकार क्यों किया?

Share on

तुर्की के मोहम्मद इलकर आयसी ने एयर इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) का पद संभालने से इनकार कर दिया है। इस पद की पेशकश उन्हें भारतीय कंपनी टाटा समूह ने की थी, जिसने हाल ही में भारत की सरकारी स्वामित्व वाली एयरलाइन, एयर इंडिया को खरीदा था।

रॉयटर्स के अनुसार, मोहम्मद इलकर आयसी ने भारत में एक हिंदू राष्ट्रवादी संगठन के विरोध के बाद यह फैसला किया है।

स्वदेशी जागरण मंच, हिंदू राष्ट्रवादी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) का ही एक उप-संगठन है।

गौरतलब है कि पिछले साल तक एयर इंडिया का स्वामित्व भारत सरकार के पास था, लेकिन घाटे के कारण इसे इस साल टाटा समूह को बेच दिया गया था।

Air India: एयर इंडिया की कमान संभालने वाले इलकर आयशी कौन हैं?

हिंदू राष्ट्रवादी संगठन का कहना है कि उन्होंने मोहम्मद इलकर आयसी के पिछले राजनीतिक संबंधों की वजह से उनकी नियुक्ति का विरोध किया है।

आयसी ने एक बयान में कहा कि भारतीय मीडिया के कुछ वर्गों ने “मेरी नियुक्ति को एक अलग रंग देने की कोशिश की है।”

इलकर आयसी ने कहा, कि “मैं इस नतीजे पर पहुंचा हूं कि इस तरह के पद को स्वीकार करना व्यवहार्य और सम्मानजनक निर्णय नहीं होगा।”

पिछले हफ्ते, स्वदेशी जागरण मंच ने कहा कि सरकार को इलकर आयसी की नियुक्ति की अनुमति नहीं देनी चाहिए, क्योंकि इससे “राष्ट्रीय सुरक्षा” खतरे में पड़ सकती है।

संगठन के सह-संयोजक ने कहा, ‘मुझे लगता है कि सरकार पहले से ही इस मुद्दे के प्रति संवेदनशील है और इसे बहुत गंभीरता से लिया है। मुझे नहीं लगता कि सरकार इसकी इजाजत देगी।”

याद रखें कि भारत में किसी एयरलाइन के सीईओ के रूप में एक विदेशी नागरिक की नियुक्त करने से पहले, सरकार की अनुमति की आवश्यकता होती है।

गौरतलब है कि टाटा समूह ने 14 फरवरी को इलकर आयसी को एयर इंडिया का सीईओ नियुक्त किया था. टाटा समूह ने जनवरी में सरकार से 18 हज़ार करोड़ रुपये में एयर इंडिया को खरीदा था।